Grow with AppMaster Grow with AppMaster.
Become our partner arrow ico

डीडीएल और डीएमएल के बीच अंतर

डीडीएल और डीएमएल के बीच अंतर

SQL में DDL ( Data Definition Language) और DML ( Data Manipulation Language) के बीच के अंतर को समझना डेटाबेस को प्रभावी ढंग से प्रबंधित और हेरफेर करने के लिए महत्वपूर्ण है। इस लेख में, हम इन दो आवश्यक SQL कमांड के बीच महत्वपूर्ण अंतरों में गहराई से गोता लगाएंगे और आपको दिखाएंगे कि अपने डेटाबेस के प्रदर्शन को अनुकूलित करने के लिए उनका उपयोग कैसे करें। तो चाहे आप SQL के लिए नए हों या एक अनुभवी प्रो, यह लेख उन लोगों के लिए अवश्य पढ़ें जो अपने डेटाबेस प्रबंधन कौशल में सुधार करना चाहते हैं। आएँ शुरू करें!

DDL क्या है?

DDL ( Data Definition Language) SQL (स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लैंग्वेज) का एक सबसेट है जिसका उपयोग डेटाबेस की संरचना और इसकी वस्तुओं, जैसे टेबल, व्यू, इंडेक्स और प्रक्रियाओं को परिभाषित करने के लिए किया जाता है। DDL स्टेटमेंट्स का उपयोग डेटाबेस ऑब्जेक्ट्स को बनाने, बदलने और हटाने के लिए किया जाता है, जिसमें टेबल, व्यू, इंडेक्स और स्टोर की गई कार्यविधियाँ शामिल हैं। कुछ सबसे आम DDL बयानों में शामिल हैं:

  • CREATE करें: यह स्टेटमेंट एक नया डेटाबेस ऑब्जेक्ट बनाता है, जैसे टेबल, व्यू या इंडेक्स। उदाहरण के लिए, निम्न SQL कथन "ग्राहक" नामक तालिका बनाता है:

CREATE TABLE ( id INT PRIMARY KEY, name VARCHAR(255), address VARCHAR(255));

  • ALTER: इस Statement का प्रयोग मौजूदा Database Object को Modify करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, निम्न SQL कथन " customers " तालिका में " email " नामक एक नया कॉलम जोड़ता है:

ALTER TABLE ग्राहक ईमेल ADD VARCHAR(255);

  • DROP: इस Statement का उपयोग किसी मौजूदा डेटाबेस ऑब्जेक्ट को हटाने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, निम्न SQL कथन "ग्राहक" तालिका को हटा देता है:

DROP TABLE ग्राहक;

  • TRUNCATE: इस Statement का प्रयोग Table में सभी Rows को हटाने के लिए किया जाता है, लेकिन DROP के विपरीत, यह Table की structure और index को संरक्षित करता है।
  • RENAME: इस कथन का उपयोग किसी मौजूदा डेटाबेस ऑब्जेक्ट का नाम बदलने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, निम्न SQL कथन "ग्राहक" तालिका का नाम बदलकर "क्लाइंट" कर देता है:

ग्राहकों के TO RENAME TABLE ग्राहकों का नाम बदलें;

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि DDL स्टेटमेंट तुरंत निष्पादित होते हैं और स्थायी होते हैं, जिसका अर्थ है कि एक बार ऑब्जेक्ट बनने, बदलने या हटाए जाने के बाद, परिवर्तन पूर्ववत नहीं किया जा सकता है। इसलिए, सावधान रहना और यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि किसी भी DDL स्टेटमेंट को निष्पादित करने से पहले आपके पास डेटाबेस बैकअप हो। इसके अतिरिक्त, DDL स्टेटमेंट आमतौर पर डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर या डेवलपर द्वारा डेटाबेस संरचना को संशोधित करने के लिए उपयुक्त विशेषाधिकारों और अनुमतियों के साथ निष्पादित किए जाते हैं।

DML क्या है?

DML ( Data Manipulation Language) SQL (स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लैंग्वेज) का एक सबसेट है जिसका उपयोग डेटाबेस के भीतर डेटा में हेरफेर करने के लिए किया जाता है। DML स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस में डेटा डालने, अपडेट करने और डिलीट करने के लिए किया जाता है। कुछ सबसे आम DML बयानों में शामिल हैं:

  • SELECT: इस Statement का प्रयोग Database में एक या एक से अधिक Tables से Data को प्राप्त करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के तौर पर, निम्न SQL क्वेरी "ग्राहक" तालिका से सभी रिकॉर्ड पुनर्प्राप्त करती है:

SELECT * FROM ग्राहकों से;

  • INSERT: इस Statement का प्रयोग Table में New Data डालने के लिए किया जाता है। एक उदाहरण के रूप में, निम्न SQL कथन "ग्राहक" तालिका में एक नई पंक्ति सम्मिलित करता है:

ग्राहकों में INSERT INTO (आईडी, नाम, पता) VALUES (1, 'जॉन स्मिथ,' '123 मेन सेंट');

  • UPDATE: इस कथन का उपयोग तालिका में मौजूदा डेटा को संशोधित करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, निम्न SQL कथन "ग्राहक" तालिका में 1 की आईडी के साथ ग्राहक का पता अद्यतन करता है:

UPDATE ग्राहक SET पता = '456 पार्क एवेन्यू' WHERE आईडी = 1;

  • DELETE: इस Statement का प्रयोग Table से Data को हटाने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, निम्न SQL कथन ग्राहक को "ग्राहक" तालिका से 1 की आईडी के साथ हटा देता है:

ग्राहकों DELETE FROM WHERE आईडी = 1;

DML स्टेटमेंट को तुरंत निष्पादित किया जाता है और रोलबैक स्टेटमेंट के साथ पूर्ववत किया जा सकता है। यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि जहाँ DDL स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस ऑब्जेक्ट को बनाने, बदलने और हटाने के लिए किया जाता है, वहीं DML स्टेटमेंट का उपयोग उन ऑब्जेक्ट के डेटा में हेरफेर करने के लिए किया जाता है।

Try AppMaster no-code today!
Platform can build any web, mobile or backend application 10x faster and 3x cheaper
Start Free

DML स्टेटमेंट आमतौर पर एंड-यूजर्स द्वारा निष्पादित किए जाते हैं, जैसे डेटा को पुनः प्राप्त करने, अपडेट करने या हटाने के लिए डेटाबेस के साथ इंटरैक्ट करने वाले एप्लिकेशन या सिस्टम। डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली क्वेरी किए जाने के बाद DML स्टेटमेंट चलाती है।

DDL बनाम DML

DDL ( Data Definition Language) और DML ( Data Manipulation Language) दोनों SQL (स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लैंग्वेज) के सबसेट हैं जिनका उपयोग डेटाबेस को प्रबंधित करने और हेरफेर करने के लिए किया जाता है। हालांकि, वे अलग-अलग उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं और अलग-अलग विशेषताएं हैं।

DDL एक डेटाबेस और उसके ऑब्जेक्ट्स की संरचना को परिभाषित करता है, जैसे टेबल, व्यू, इंडेक्स और प्रोसेस। DDL स्टेटमेंट्स का उपयोग डेटाबेस ऑब्जेक्ट्स को बनाने, बदलने और हटाने के लिए किया जाता है, जिसमें टेबल, व्यू, इंडेक्स और स्टोर की गई कार्यविधियाँ शामिल हैं। DDL स्टेटमेंट के उदाहरणों में CREATE, ALTER, DROP, TRUNCATE और RENAME शामिल हैं। DDL स्टेटमेंट तुरंत निष्पादित होते हैं और स्थायी होते हैं, जिसका अर्थ है कि एक बार ऑब्जेक्ट बनने, बदलने या हटाए जाने के बाद, परिवर्तन पूर्ववत नहीं किया जा सकता है। इसलिए, सावधान रहना और यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि किसी भी DDL स्टेटमेंट को निष्पादित करने से पहले आपके पास डेटाबेस बैकअप हो। DDL स्टेटमेंट आमतौर पर डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर या डेवलपर द्वारा डेटाबेस संरचना को संशोधित करने के लिए उपयुक्त विशेषाधिकार और अनुमतियों के साथ निष्पादित किए जाते हैं।

DML का उपयोग डेटाबेस के भीतर डेटा में हेरफेर करने के लिए किया जाता है। DML स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस में डेटा डालने, अपडेट करने और डिलीट करने के लिए किया जाता है। DML स्टेटमेंट के उदाहरणों में सेलेक्ट SELECT, INSERT, UPDATE और DELETE शामिल हैं। DML स्टेटमेंट को तुरंत निष्पादित किया जाता है और रोलबैक स्टेटमेंट के साथ पूर्ववत किया जा सकता है। DML स्टेटमेंट आमतौर पर एंड-यूजर्स द्वारा निष्पादित किए जाते हैं, जैसे डेटा को पुनः प्राप्त करने, अपडेट करने या हटाने के लिए डेटाबेस के साथ इंटरैक्ट करने वाले एप्लिकेशन या सिस्टम।

संक्षेप में, DDL का उपयोग डेटाबेस की संरचना को परिभाषित और प्रबंधित करने के लिए किया जाता है, जबकि DML का उपयोग डेटाबेस के भीतर डेटा में हेरफेर करने के लिए किया जाता है। DDL स्टेटमेंट स्थायी होते हैं और पूर्ववत नहीं किए जा सकते, जबकि DML स्टेटमेंट तुरंत निष्पादित किए जाते हैं और पूर्ववत किए जा सकते हैं। DDL बयानों को अधिकृत कर्मियों द्वारा निष्पादित किया जाता है, जबकि अंतिम उपयोगकर्ता DML बयानों को निष्पादित करते हैं।

DDL क्यों?

DDL ( Data Definition Language) एक डेटाबेस की संरचना और उसकी वस्तुओं, जैसे टेबल, व्यू, इंडेक्स और प्रक्रियाओं को परिभाषित करता है। DDL स्टेटमेंट्स का उपयोग डेटाबेस ऑब्जेक्ट्स को बनाने, बदलने और हटाने के लिए किया जाता है, जिसमें टेबल, व्यू, इंडेक्स और स्टोर की गई कार्यविधियाँ शामिल हैं। DDL क्यों आवश्यक है इसके कई कारण हैं:

  • डेटाबेस निर्माण और प्रबंधन : DDL स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस की संरचना को बनाने और प्रबंधित करने के लिए किया जाता है। DDL के साथ, डेटाबेस की संरचना को विकसित करना और बनाए रखना आसान होगा।
  • डेटा इंटीग्रिटी : DDL स्टेटमेंट प्राथमिक, विदेशी और अद्वितीय कुंजी जैसे डेटा अखंडता बाधाओं को लागू करते हैं। ये बाधाएँ यह सुनिश्चित करने में मदद करती हैं कि डेटाबेस में डेटा सटीक और सुसंगत है।
  • प्रदर्शन : DDL स्टेटमेंट का उपयोग इंडेक्स और अन्य डेटाबेस ऑब्जेक्ट बनाने के लिए किया जाता है जो डेटाबेस के प्रदर्शन में सुधार कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, किसी टेबल पर इंडेक्स बनाने से उस टेबल पर प्रश्नों की गति में सुधार हो सकता है।
  • डेटा सुरक्षा : DDL स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस ऑब्जेक्ट्स पर अनुमतियों को सेट करने के लिए किया जा सकता है ताकि यह नियंत्रित किया जा सके कि कौन उन्हें एक्सेस और हेरफेर कर सकता है। यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि केवल अधिकृत उपयोगकर्ता ही डेटाबेस में डेटा को एक्सेस और संशोधित कर सकते हैं।
  • डेटा बैकअप और रिकवरी : बैकअप और रिकवरी प्रक्रियाओं को बनाने और बनाए रखने के लिए DDL स्टेटमेंट का उपयोग किया जाता है। यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि विफलता की स्थिति में डेटाबेस को पुनर्स्थापित किया जा सकता है।
Try AppMaster no-code today!
Platform can build any web, mobile or backend application 10x faster and 3x cheaper
Start Free

DDL महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका उपयोग डेटाबेस की संरचना को बनाने और प्रबंधित करने, डेटा अखंडता को लागू करने, प्रदर्शन में सुधार करने, डेटा सुरक्षा सुनिश्चित करने और बैकअप और पुनर्प्राप्ति प्रक्रियाओं को बनाए रखने के लिए किया जाता है। ये सभी सुविधाएँ एक सुचारू, सुरक्षित और कुशल डेटाबेस संचालन के लिए आवश्यक हैं।

DML क्यों?

DML ( Data Manipulation Language) का उपयोग डेटाबेस के भीतर डेटा में हेरफेर करने के लिए किया जाता है। DML स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस में डेटा डालने, अपडेट करने और डिलीट करने के लिए किया जाता है। DML क्यों महत्वपूर्ण है इसके कई कारण हैं:

  • डेटा प्रविष्टि और रखरखाव : DML स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस में नया डेटा डालने और मौजूदा डेटा को अपडेट करने या हटाने के लिए किया जाता है। डेटाबेस में डेटा की सटीकता और पूर्णता को बनाए रखने के लिए यह आवश्यक है।
  • डेटा रिट्रीवल : DML स्टेटमेंट जैसे SELECT स्टेटमेंट का उपयोग डेटाबेस में एक या एक से अधिक टेबल से डेटा को पुनः प्राप्त करने के लिए किया जाता है। यह उन अनुप्रयोगों और प्रणालियों के लिए आवश्यक है जो डेटाबेस में डेटा तक पहुँच और विश्लेषण कर सकते हैं।
  • डेटा इंटीग्रिटी : DML स्टेटमेंट्स का उपयोग डेटा इंटीग्रिटी बाधाओं को लागू करने के लिए किया जा सकता है, जैसे संबंधित तालिकाओं में डेटा को अपडेट या डिलीट करके रेफ़रेंशियल इंटीग्रिटी।
  • डेटा ऑडिटिंग : डेटाबेस में डेटा में परिवर्तन को ट्रैक करने के लिए DML स्टेटमेंट का उपयोग किया जा सकता है, जैसे परिवर्तन किसने किया और कब किया गया। यह ऑडिटिंग और अनुपालन उद्देश्यों के लिए उपयोगी है।
  • डेटा बैकअप और रिकवरी : बैकअप और रिकवरी प्रक्रियाओं को बनाने और बनाए रखने के लिए DML स्टेटमेंट का उपयोग किया जा सकता है। यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि विफलता की स्थिति में डेटाबेस को पुनर्स्थापित किया जा सकता है।

DML महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका उपयोग डेटाबेस में डेटा डालने, अपडेट करने और हटाने, डेटाबेस से डेटा पुनर्प्राप्त करने, डेटा अखंडता लागू करने, डेटा में परिवर्तन ट्रैक करने और बैकअप और रिकवरी प्रक्रियाओं को बनाए रखने के लिए किया जाता है। ये सभी सुविधाएँ एक सुचारू, सटीक और कुशल डेटाबेस संचालन के लिए आवश्यक हैं।

सामान्य प्रश्न

DDL और DML में क्या अंतर है?

DDL ( Data Definition Language) डेटाबेस स्कीमा को परिभाषित करने के लिए SQL कमांड का एक सेट है। यह केवल डेटाबेस स्कीमा के विवरण से संबंधित है और इसका उपयोग डेटाबेस ऑब्जेक्ट की संरचना को बनाने और संशोधित करने के लिए किया जाता है। DDL कथनों के उदाहरणों में शामिल हैं CREATE, ALTER और DROP

DML ( Data Manipulation Language) SQL कमांड का एक सेट है जिसका उपयोग DDL द्वारा बनाए गए स्कीमा के भीतर डेटा में हेरफेर करने के लिए किया जाता है। यह वास्तविक डेटा से संबंधित है और इसका उपयोग डेटाबेस से डेटा डालने, अपडेट करने और पुनर्प्राप्त करने के लिए किया जाता है। DML स्टेटमेंट के उदाहरणों में सेलेक्ट SELECT, INSERT, UPDATE और DELETE शामिल हैं।

क्या DDL स्टेटमेंट को वापस लाया जा सकता है?

नहीं, DDL स्टेटमेंट को वापस नहीं लाया जा सकता क्योंकि वे डेटाबेस स्कीमा में स्थायी परिवर्तन करते हैं।

क्या DML बयानों को वापस लाया जा सकता है?

हां, DML स्टेटमेंट को वापस रोल किया जा सकता है क्योंकि वे डेटाबेस में डेटा में अस्थायी परिवर्तन करते हैं।

DDL में कौन से SQL कथन शामिल हैं?

DDL में SQL स्टेटमेंट जैसे CREATE, ALTER और DROP शामिल हैं, जिनका उपयोग डेटाबेस संरचनाओं जैसे टेबल, इंडेक्स और उपयोगकर्ताओं को बनाने, संशोधित करने और हटाने के लिए किया जाता है।

DML में कौन से एसक्यूएल स्टेटमेंट शामिल हैं?

DML में SQL स्टेटमेंट जैसे SELECT, INSERT, UPDATE और DELETE शामिल हैं, जिनका उपयोग डेटाबेस से डेटा को पुनः प्राप्त करने, डालने, अपडेट करने और हटाने के लिए किया जाता है।

DDL और DML स्टेटमेंट के निष्पादन का क्रम क्या है?

DDL स्टेटमेंट को पहले एक्जीक्यूट किया जाता है, और DML स्टेटमेंट को बाद में एक्जीक्यूट किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि किसी भी डेटा में हेरफेर करने से पहले डेटाबेस स्कीमा को परिभाषित किया जाना चाहिए।

संबंधित पोस्ट

ऐपमास्टर की नई सफलता की कहानी: वेरीमेल
ऐपमास्टर की नई सफलता की कहानी: वेरीमेल
जानें कि कैसे वेरीमेल ने ऐपमास्टर के नो-कोड प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करके अपनी अभिनव ईमेल सत्यापन सेवा शुरू की। उनके तेज़ विकास के बारे में जानें।
ऑनलाइन सफलता के लिए विकसित किए जाने वाले ई-कॉमर्स ऐप्स
ऑनलाइन सफलता के लिए विकसित किए जाने वाले ई-कॉमर्स ऐप्स
आवश्यक ई-कॉमर्स ऐप के साथ अपने ऑनलाइन व्यवसाय की पूरी क्षमता को अनलॉक करें। अपने डिजिटल स्टोरफ़्रंट को बढ़ाने और बाज़ार पर हावी होने के लिए ज़रूरी सुविधाएँ, विकास रणनीतियाँ और अभिनव उपकरण खोजें।
मैं अपना ऐप सुरक्षित कैसे बना सकता हूँ?
मैं अपना ऐप सुरक्षित कैसे बना सकता हूँ?
जानें कि विकास के सर्वोत्तम तरीकों, उपकरणों और रणनीतियों के ज़रिए अपने ऐप को कैसे सुरक्षित बनाया जाए। उपयोगकर्ता डेटा की सुरक्षा करें, उल्लंघनों को रोकें और मज़बूत सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करें।
निःशुल्क आरंभ करें
इसे स्वयं आजमाने के लिए प्रेरित हुए?

AppMaster की शक्ति को समझने का सबसे अच्छा तरीका है इसे अपने लिए देखना। निःशुल्क सब्सक्रिप्शन के साथ मिनटों में अपना स्वयं का एप्लिकेशन बनाएं

अपने विचारों को जीवन में उतारें